इस जीवन के बाद क्या? पता लगाइये!

इस जीवन के बाद क्या? पता लगाइये!

   Francais Español Pусский العربية Nederlands  Persian (Farsi) فارسی Bengali বাংলা Hindi हिन्दी Punjabi ਪੰਜਾਬੀ English Portugese Ukranian አማርኛ (Amharic)

फूल सुंदर तरीके से खिलते हैं, इसके बाद तुरंत मुरझा जाते हैं। जीवन सुबह की धुंध की तरह है: यह थोड़ी देर रहता है, इसके बाद चला जाता है। फूल की तरह, जीवन भी एक दिन खत्म हो जायेगा।

इसके बाद क्या?

भविष्य में हमारी मृत्यु निश्चित है: फिर, क्या होगा? फूलों के विपरीत, हमारी आत्माएं जीवित रहेंगी। मान लीजिए कि वास्तव में कोई परमेश्वर है, जिसने फूलों और आपको दोनों को बनाया है… क्या आप उसे अनदेखा करने वाले लोगों जैसे हैं? और अगर आप मर जाते हैं तो क्या होगा, उसके बिना आप कहाँ जायेंगे? आपका क्या होगा?

पृथ्वी पर जीवन का चमत्कार

यहां तक कि सबसे छोटे फूल को भी अद्भुत तरीके से बनाया गया है। पृथ्वी ग्रह की जटिलता और संरचना में रहने वाले मनुष्यों, जानवरों और पौधों और पूरे ब्रह्माण्ड का विशाल अस्तित्व यह साबित करता है कि इसे बनाने वाला कोई है: परमेश्वर। क्या वह एक आदर्श प्राणी नहीं होगा? वास्तव में: वह सर्वोत्तम, पवित्र और सर्वशक्तिमान है। परमेश्वर निश्चित रूप से है, और हर दिन आपको देखता भी है।

हमारे जीवन का परिणाम

परमेश्वर आपके साथ संपर्क पुनर्स्थापित करना चाहता है, जी हाँ: वो आपसे बहुत प्यार करता है! लेकिन एक समस्या है: वह पवित्र है, और आपने अपने जीवन में जो भी गलत चीजें (पाप) की हैं, वो आपको उससे दूर करती हैं। ना केवल इस जीवन के दौरान, बल्कि इसके कारण आप इस जीवन के बाद स्वर्ग में भी नहीं जा पाएंगे। क्योंकि मनुष्यों के लिए अपने पापों से कलंकित रहते हुए स्वर्ग में पवित्र परमेश्वर के साथ रहना संभव नहीं है।

प्रेम का बलिदान

परमेश्वर ने आपके पापों की समस्या को स्वयं हल करने का फैसला किया। लगभग 2000 साल पहले उन्होंने अपने पुत्र, यहोवा यीशु मसीह, को धरती पर भेजा था। यीशु मसीह, परमेश्वर के एकमात्र पुत्र, ने आपके पापों का दोष अपने ऊपर लिया: उन्होंने क्रूस पर मरते समय आपके लिए अपना बलिदान दिया। यह जरुरी था: पापों को केवल धर्मी व्यक्ति के खून से मिटाया जा सकता था। क्रूस के बाद, यहोवा यीशु अपनी कब्र से मरकर ज़िंदा हो गए, और अब स्वर्ग में परमेश्वर के दायीं तरफ बैठते हैं। केवल ईसा मसीह ही आपके पापों को दूर कर सकते हैं। कोई धार्मिक जीवन, अच्छे कर्म या कोई भी और चीज यह नहीं कर सकती: ईसा मसीह परमेश्वर के पास जाने का एकमात्र रास्ता हैं।

परमेश्वर के प्रस्ताव और शर्त

संक्षेप में यही सच्चाई है। क्रूस के बाद से, परमेश्वर सभी को अपना प्रेम, पापों से मुक्ति और अनंत जीवन प्रदान करता है। लेकिन एक शर्त है: विश्वास। किस पर विश्वास करना है?
1. यह विश्वास करें कि ईसा मसीह परमेश्वर के पुत्र हैं;

  1. यह विश्वास करें कि ईसा मसीह आपको अपने पापों से बचाने वाले उद्धारक हैं;
  2. यह विश्वास करें कि मसीह आपके जीवन के जीवित यहोवा हैं, उन्हें यहोवा के रूप में स्वीकार करें और अब से, उन्हें खुद को ऐसा इंसान बनाने दें जो वो आपको बनाना चाहते हैं।
    इसपर विश्वास करने और इसे बोलने के बाद ही, आपको अपने पापों से क्षमा और मोक्ष प्राप्त हो सकता है, और मृत्यु के बाद स्वर्ग में अनंत जीवन मिल सकता है।

ईसा मसीह के खिलाफ फैसला करने पर अनंत दंड भोगना पड़ता है

अगर आप किसी चीज पर भरोसा ना करने का या ईसा मसीह के खिलाफ फैसला करने का चुनाव करते हैं तो आप खुद को परमेश्वर के खिलाफ भी खड़ा कर देंगे। अगर आप यह नहीं चाहते कि यीशु आपके पापों को दूर करें तो आप अपने पापों से कलंकित बने रहेंगे और इस जीवन के बाद उनके कारण आपका फैसला किया जायेगा। इसकी वजह से आपको परमेश्वर के बिना एक भयानक अनंत भविष्य में जीना होगा और आपको स्वर्ग में प्रवेश नहीं मिलेगा। इसे अच्छी तरह से जान लीजिये!

समय रहते चुनें

चुनाव आपके ऊपर है: क्या आप अपने रक्षक या यहोवा के रूप में ईसा मसीह पर भरोसा करते हैं? स्वर्ग जाने का कोई और तरीका नहीं है। अभी, पृथ्वी पर अपने जीवन के दौरान, यह अपना मन बनाने का सही समय है। लोग अचानक मर सकते हैं या पागल हो सकते हैं, जिसके कारण उन्हें ईसा मसीह में विश्वास करने का और उनसे क्षमा मांगने का अवसर या समय नहीं मिलेगा। अपना फैसला करने में देरी ना करें: आज आपका दिन है।

यदि आप पहले स्रोत के रूप में परमेश्वर के अपने शब्दों में और अधिक गहन जानकारी पढ़ना चाहते हैं…

फूलों से कहीं ज्यादा

अगर आपने पहले ही अपने जीवन का सबसे अच्छा फैसला करने का मन बना लिया है तो…

कार्यवाही के लिए तैयार

आपको बहुत-बहुत शुभकामना!

अगर आप आगे नहीं पढ़ना चाहते हैं तो भी परमेश्वर इस जीवन में आपका भला करे, आपके और आपके परिवार को अच्छा स्वास्थ्य और बुढ़ापा प्रदान करे!

हालाँकि, हम यह भी उम्मीद करते हैं कि परमेश्वर आपको पापों और न्याय के बारे में समझाकर, मृत्यु के बाद के जीवन के विषय में स्वयं आपके दिल में काम करेगा। परमेश्वर का प्रेम चुंबक की तरह आपको अपनी ओर आकर्षित कर सकता है! हालाँकि, वह आपको कभी भी यीशु मसीह को अपने उद्धारकर्ता और भगवान के रूप में चुनने के लिए मजबूर नहीं करेगा, अपने पूरे जीवन के दौरान परमेश्वर आपके पास आते रहेंगे और आपके उनके पास आने की उम्मीद करेंगे।

जरुरत के समय प्रार्थना करने के लिए, इस एक पंक्ति की प्रार्थना को याद रखें:

परमेश्वर के पुत्र, यहोवा यीशु, मेरे पापों को क्षमा करें और मेरी आत्मा की रक्षा करें

परमेश्वर आपका भला करे!

Facebook Twitter